3.5 C
Munich
Monday, January 30, 2023

फाइलेरिया उन्मूलन के लिए आशा व आशा संगिनीयों का प्रशिक्षण शुरू

Must read

मेहनगर पीएचसी में 40 आशा, आशासंगिनी को किया गया प्रशिक्षित

जिले में दस फरवरी से शुरू होगा आईडीए अभियान

आजमगढ़/संसद वाणी

संवाददाता:-राकेश वर्मा

राष्ट्रीय फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम के तहत जिले में आईडीए अभियान दस फरवरी से शुरू किया जाएगा। इस अभियान में डीइसी, अलबेंडाजोल व आइवरमेक्टिन (ट्रिपल ड्रग थेरेपी) की गोलियां सम्बन्धित आयु वर्ग के अनुसार लोगों को घर-घर जाकर खिलाई जाएंगी। जिसके लिए ब्लॉक स्तरीय प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर आशा व आशा संगिनीयों को प्रशिक्षिण शुरू कर दिया गया है। इस क्रम में शुक्रवार को मेहनगर पीएचसी पर 40 आशा व आशासंगिनी एवं सुपरवाइजर को प्रशिक्षित किया गया। यह जानकारी जिला मलेरिया अधिकारी शेषधर द्विवेदी ने दी। सहायक मलेरिया अधिकारी राधेश्याम ने बताया कि फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम का उद्देश्य इस रोग पर शतप्रतिशत नियंत्रण है। इसके लिए आशा कार्यकर्ता के माध्यम से लोगों को इस बीमारी के कारण, लक्षण, बचाव एवं उपचार के लिए प्रेरित व जागरूक करना है,दवा किसको कहानी है और किसको नहीं कहानी है। (एडीएमओ) राधेश्याम ने बताया कि यह दवाएं गर्भवती महिलाओं, दो वर्ष से कम उम्र के बच्चों व अत्यधिक बीमार लोगों को नहीं दी जाएगी।अलबेंडाजोल की गोली को चबाकर खाना है, आशा कार्यकर्ता को यह भी जानकारी दी गयी कि यह गोलियां किसी भी व्यक्ति को खाली पेट नहीं दी जाती है। अगर किसी को यह गोली को खाने के बाद सिरदर्द, चक्कर, बुखार या शरीर पर चकत्ते व खुजली हो तो इससे घबराने की आवश्यकता नहीं है। इस तरह के लक्षण वाले शरीर में माइक्रोफाइलेरिया परजीवी है, वे ख़त्म होने से पहले प्रतिक्रिया करते हैं। इन्हीं विषयों पर आशा कार्यकर्ता को प्रशिक्षण दिया गया।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article