2 C
Munich
Thursday, December 1, 2022

जिले की नौ एफआरयू पर मना ‘सुरक्षित मातृत्व क्लीनिक’ दिवस

Must read

Advertisement
Advertisement

354 गर्भवती की हुई प्रसव पूर्व जांच, मिला पोषण व परिवार नियोजन सम्बन्धी परामर्श

एचआरपी वाली महिलाओं को सुरक्षित संस्थागत प्रसव के लिए किया प्रेरित

हर माह 24 तारीख को मनाया जाता है ‘प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व क्लीनिक’

दीपावली के अवकाश के चलते शुक्रवार को मनाया गया दिवस

वाराणसी/संसद वाणी

जनपद की नौ प्रथम संदर्भन इकाइयों (एफ़आरयू) पर शुक्रवार को ‘प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व क्लीनिक दिवस’ मनाया गया । यह दिवस हर माह की 24 तारीख को मनाया जाता है लेकिन दीपावली के अवकाश के कारण इसका आयोजन शुक्रवार को किया गया। इसके तहत जिले की चार नई एफआरयू सहित नौ इकाइयों पर 354 गर्भवती की निःशुल्क प्रसव पूर्व जाँच (एएनसी) की गई । इसके साथ ही गर्भावस्था के दौरान बरती जाने वाली जरूरी सावधानियों के बारे में बताया गया ।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ संदीप चौधरी ने बताया कि महीने में अब दो बार “प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान (पीएमएसएमए) दिवस” मनाया जाता है । हर माह की नौ तारीख को पहले से पीएमएसएमए दिवस मनाया जा रहा है और जनपद की सभी एफ़आरयू पर 24 तारीख को ‘प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व क्लीनिक दिवस के रूप में पीएमएसएमए दिवस मनाया जा रहा है।
सीएमओ ने बताया कि मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिए जनपद की स्वास्थ्य इकाइयों पर प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस का आयोजन किया जाता है। गर्भवती के प्रसव पूर्व जाँच के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान को महीने में दो दिवस पर आयोजित करने का निर्णय लिया है। अभियान को सफल बनाने के लिए एफआरयू जिला महिला चिकित्सालय कबीरचौरा, एलबीएस चिकित्सालय रामनगर, सीएचसी चोलापुर, सीएचसी आराजीलाइन, सीएचसी गंगापुर (पिंडरा) पर मनाया जा रहा है एवं चार नई एफआरयू डीडीयू चिकित्सालय स्थित एमसीएच विंग, सीएचसी हाथी (सेवापुरी), शहरी सीएचसी चौकाघाट एवं सीएचसी दुर्गाकुंड पर इस दिवस का आयोजन शुरू हुआ है।
उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी (आरसीएच) डॉ एच0सी0 मौर्य ने बताया कि स्वास्थ्य केंद्र पर नियमित जांच व उच्च जोखिम गर्भावस्था वाली महिलाओं को प्रसव पूर्व जाँच (एएनसी) कर मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लायी जा सकती है। गर्भवती की नियमित नि:शुल्क जांच एवं प्रसव पश्चात उचित देखभाल की सुविधा देने के लिए आयोजन का विस्तार किया गया है। इस दौरान गर्भवती के ब्लड ग्रुप, हीमोग्लोबिन, यूरिन, मधुमेह, सिफलिस, एचआईवी आदि की जांच की जाती है। जांच के दौरान ही उच्च जोखिम गर्भावस्था (एचआरपी) वाली महिलाएं चिह्नित की जाती हैं और उनके सुरक्षित प्रसव की व्यवस्था कराई जाती है। इसके लिए उन्हें प्रसव के दौरान उच्च चिकित्सा इकाइयों पर रेफर भी किया जाता है। उच्च जोखिम गर्भावस्था वाली महिलाओं को गंभीर रक्त अल्पता, उच्च रक्तचाप, कम वजन, डायबिटीज, एचआईवी पाजिटिव तथा 35 साल से अधिक की उम्र में गर्भधारण आदि श्रेणियों में पहचान की जाती है, जिला कार्यक्रम प्रबंधक (डीपीएम) संतोष सिंह ने बताया कि इस अभियान का उद्देश्य गर्भवती की प्रसव पूर्व विधिवत जांच विशेषज्ञ व महिला डॉक्टर की निगरानी में कराना है । मातृत्व स्वास्थ्य परामर्शदाता पूनम गुप्ता ने बताया कि इस दिवस पर जिले में करीब 354 गर्भवती  की जांच हुई, जिसमें लगभग 69 एचआरपी की श्रेणी में चिह्नित की गईं।
यह सेवाएँ निःशुल्क दी गईं – इस दिवस पर समस्त गर्भवती की प्रसव पूर्व जाँचे (एएनसी) जैसे हीमोग्लोबिन, शुगर, यूरिन जांच, ब्लड ग्रुप, एचआईवी, सिफ़लिस, वजन, ब्लड प्रेशर एवं अन्य जाँचों की निःशुल्क सुविधा दी गईं। इसके साथ ही आयरन, कैल्शियम, एलबेंडाजॉल एवं आवश्यक दवाएं मुफ्त दी गईं। एचआरपी युक्त महिलाओं की पहचान, प्रबंधन एवं सुरक्षित संस्थागत प्रसव के लिए प्रेरित किया गया। इसके अलावा पोषण, परिवार नियोजन तथा प्रसव स्थान के चयन के बारे में भी उचित सलाह दी गई। 
सीएचसी आराजीलाइन पहुंची पिंकी (22) की महिला डॉक्टर ने सभी प्रसव पूर्व जांच की। उन्होंने कहा कि हीमोग्लोबिन का स्तर सामान्य से कम पाये जाने पर डॉक्टर ने हरी साग सब्जियाँ, मौसमी फल, दूध, गुड़ आदि खाने की सलाह दी। इसके साथ ही नियमित लाल आयरन की गोली खाने की सलाह भी दी। वहीं मंजू यादव (22) ने बताया कि वह पहली बार माँ बनने जा रही हैं इसलिए सभी सावधानी बरत रही हैं। हीमोग्लोबिन का स्तर कम होने से डॉक्टर ने उन्हें पौष्टिक आहार लेने की सलाह दी। यह भी बताया गया कि क्षेत्र की आशा कार्यकर्ता से नियमित सलाह लेती रहें।

Advertisement
- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article