3.5 C
Munich
Monday, January 30, 2023

उप जोन स्तरीय संगोष्ठी का आयोजन सम्पन्न।

Must read

वाराणसी/संसद वाणी

वाराणसी उप जोन के अंतर्गत आने वाले जिला वाराणसी, चंदौली, गाजीपुर, जौनपुर, मिर्जापुर, सोनभद्र एवं भदोही के सक्रिय एवं अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं एवं साधकों की उप जोन स्तरीय संगोष्ठी का आयोजन गायत्री शक्तिपीठ, शिवपुरी कॉलोनी, नगवां, लंका वाराणसी के प्रांगण में मध्याह्न 12 बजे से गायत्री महामंत्र के सस्वर उच्चारण एवं दीप प्रज्ज्वलन से शुरू हुआ। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उप जोन समंवयक आदरणीय रामजीत पांडेय ने कार्यक्रम के रूपरेखा एवं साधना पर प्रकाश डाला। रामजीत पांडेय ने कहा कि गायत्री साधना साधक की दशा एवं दिशा बदलते हुए सही जीवन जीने का मार्गदर्शन करता है। वाराणसी ,जौनपुर, भदोही, चंदौली, गाजीपुर, मिर्जापुर एवं सोनभद्र से आये अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं से कहा कि सभी अपने जीवन में साधना को बढ़ावे। जो व्यक्ति गुरु दीक्षा के समय लिए गए तीन माला के संकल्प को बढ़ा कर पाँच माला एवं जो पांच माला कर रहे है वह आठ, बारह एवं चौबीस माला का जप करें जीवन में आध्यात्मिक, आत्मिक एवं सकारात्मक ऊर्जा के संचरण का स्वतः अनुभूति होगी।
उप जोन स्तरीय संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए वाराणसी जोन समंवयक मानसिंह वर्मा ने गायत्री तीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार द्वारा वसंत पर्व से अगले वसंत पर्व के बीच निर्धारित कार्य योजना पर चर्चा किया। मानसिंह वर्मा ने जप, साधना, अंशदान, हर घर गायत्री एवं गृहे गृहे गायत्री यज्ञ पर संबोधित करते हुए कहा कि जप आंतरिक ऊर्जा को बढ़ाता है। प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन 24 बार महामृत्युंजय महामंत्र एवं 5 माला गायत्री महामंत्र का जप करना ही चाहिए जिससे सूर्यदेव की कृपा बनी रहे। हर व्यक्ति को दैनिक अंशदान निकालना चाहिये।अंशदान से जन कल्याण के बड़े से बड़े कार्यक्रम को आसानी से किया जा सकता है।हर घर गायत्री एवं गृहे गृहे गायत्री यज्ञ पर चर्चा करते हुए कहा कि आज की बदलती परिस्थितियों, भागमभाग जीवन शैली एवं अव्यवहारिक कार्यशैली में व्यापक बदलाव गायत्री मंत्र के जप से होता है गायत्री यज्ञ वातावरण का परिष्कार करता है घर का वातावरण शुद्ध एवं आध्यात्म से परिपूर्ण बनाता है । परिवार के हर सदस्य में आपसी प्रेम, सहयोग एवं आत्मीयता को बढ़ाता है जिस कारण व्यक्ति सकारात्मक सोच के साथ जीवन जीने लगता है। आगे बताया कि उप जोन के अंतर्गत आने वाले जिलों के ग्रामीण ब्लाकों में प्रशिक्षित साधकों को भेज कर जनजागरण का कार्यक्रम है ।और प्रत्येक घर पहुँचने की योजना भी बनी है । यह योजना आगामी अप्रैल माह तक चलेगा । घर घर गायत्री एवं गृहे गृहे गायत्री यज्ञ के कार्यक्रम में लक्ष्य की प्राप्ति हेतु और भी टोलियो को ब्लॉक स्तर पर प्रशिक्षित किया जायेगा। मानसिंह वर्मा ने कहा कि वर्ष 2026 में परम वन्दनीय माता भगवती देवी का जन्म शताब्दी मनाया जायेगा।भव्य जन्म शताब्दी कार्यक्रम की सफलता हेतु आप सभी 3 माला गायत्री महामंत्र की अतिरिक्त जप साधना अनुष्ठान शुरू करें ताकि गुरु-माता जी का वृहद जन्म शताब्दी समारोह सम्पन्न हो ।


जिला समन्वयक पंडित गंगाधर उपाध्याय ने कहा कि आज मकर संक्रांति है सूर्य उत्तरायण होकर मकर राशि में प्रवेश कर रहे है ।सूर्य और गायत्री का सीधा संबंध है जो लोग गायत्री साधना कर रहे है उन्हें का साक्षात आशीर्वाद प्राप्त होगा। यह समय गायत्री साधना का अति उत्तम समय है ।जिला समन्वयक पंडित गंगाधर उपाध्याय एवं मुख्य प्रबंध ट्रस्टी डॉक्टर रोहित गुप्ता ने विभिन्न जिलों से आये साधकों का स्वागत एवं आभार प्रकट किया।
कार्यक्रम का संयोजन गायत्री परिवार वाराणसी ने किया ।
कार्यक्रम में मुख्य रूप से पंडित गंगाधर उपाध्याय, डॉक्टर रोहित गुप्ता, विनोद उपाध्याय, संतोष कुमार मौर्या शरद कुमार चौबे, कमला प्रसाद मौर्य, घनश्याम राम, हरिशंकर श्रीवास्तव, देव नाथ शर्मा, बेचू लाल, रमाकांत पाठक, राम वृक्ष यादव, बलिराम निषाद, अनिलेश तिवारी, डॉक्टर भगवान दास, जय नारायण दुबे, हरिशंकर मौर्य, रजनीश कुमार मल्होत्रा, विद्याधर मिश्रा, अयोध्या प्रसाद श्रीमती कांति देवी, पूर्णिमा भारद्वाज, रीता मिश्रा डॉक्टर उषा किरण, मनोरमा सिंह, गीता सिंह, रीता श्रीवास्तव एवं मीडिया प्रभारी रमन कुमार श्रीवास्तव सहित वाराणसी, चंदौली, मिर्जापुर, सोनभद्र, जौनपुर एवं भदोही के सैकड़ों अग्रिम पंक्ति के गायत्री साधकों की उपस्थिति रही।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article