कंझावला केस: दिल्ली पुलिस ने गृह मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट

0
49

नई दिल्ली। बेशक गृह मंत्रालय द्वारा कंझावला मामले का संज्ञान लिए जाने के बाद दिल्ली पुलिस सक्रिय हो चुकी हो। लेकिन हालिया रिपोर्ट में पुलिस द्वारा बरती गई बड़ी लापरवाही सामने आई है। याद दिला दें कि विगत दिनों केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दिल्ली पुलिस से मामले के संदर्भ में रिपोर्ट तलब की थी। केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने खुद एसपी शालिनी सिंह के नेतृत्व में समिति भी गठित की थी। जिसकी रिपोर्ट आज दिल्ली पुलिस ने गृह मंत्रालय की सौंप दी है। प्रथमदृष्टया इस रिपोर्ट में दिल्ली पुलिस द्वारा कोताही बरते जाने की बात प्रकाश में आई है। रिपोर्ट में दर्ज है कि मौका ए वारदात में पुलिस ने पहुंचने में देरी की थी। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अगर पुलिस मौके पर पहुंची होती, तो उस बच्ची की जान बचाई जा सकती थी, लेकिन पुलिस ने मामले में ब़ड़ी लापरवाही बरती।

सूत्रों ने बताया कि पीसीआर को सूचना मिलने के बाद भी काफी देर तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई. दरअसल प्रत्यक्षदर्शियों का दावा है कि उन्होंने सबसे पहले सोमवार तड़के 3:20 बजे पीसीआर को सूचित किया था. इसके तुरंत बाद दूसरा कॉल किया गया, फिर तड़के 4:11 बजे तीसरा कॉल किया गया. बताया जा रहा है कि इस तीसरे कॉल के बाद ही पुलिस हरकत में आई और तलाशी अभियान शुरू किया.

बता दें कि दिल्ली के कंझावला में 31 दिसंबर की रात हुए एक सड़क हादसे में 20 साल की अंजलि सिंह की मौत ने सबको झकझोर कर रख दिया है. यहां एक कार ने अंजलि की स्कूटी को टक्कर मार दी थी. इससे वह कार के नीचे फंस गई और 10-12 किलोमीटर तक घिसटती रही, जिससे आखिरकार उसकी मौत हो गई थी. इस घटना को लेकर गृह मंत्री अमित शाह के निर्देश पर गृह मंत्रालय ने दिल्ली पुलिस से विस्तृत रिपोर्ट मांगी थी. इसके बाद दिल्ली पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए विशेष आयुक्त शालिनी सिंह की अध्यक्षता में एक जांच समिति का गठन किया और उनसे जल्द से जल्द जांच रिपोर्ट पेश करने को कहा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here