3.5 C
Munich
Monday, January 30, 2023

बिल गड़बड़ी की शिकायत की तो कट जाएगा कनेक्शन

Must read

सहायक अभियंता के बिगड़े बोल कहा पहले बिल जमा करो फिर सुनेंगे समस्या

वितरण खंड पिपरी में मीटर रीडिंग व बिल गड़बड़ी की शिकायतों का अंबार

रेणुकूट/संसद वाणी

करे कोई और भरे कोई और की कहावत चरितार्थ कर रहा है विद्युत वितरण खंड पिपरी कार्यालय की कार्यप्रणाली। अगर आप विद्युत वितरण खंड पिपरी से जुड़े विद्युत उपभोक्ता है तो कार्यालय में अपनी शिकायत या समस्या बताने जा रहे हैं तो जरा संभल कर जाइएगा। विभाग के सहायक अभियंता एस के यादव उपभोक्ताओं की समस्या सुनते ही समाधान करने की बजाय फौरन अपने अधीनस्थों को पीड़ित के कनेक्शन को काटने का फरमान जारी करते हैं। उसके बाद अनुशासन और ईमानदारी का घुट्टी पिलाते पिलाते थकते नहीं। कभी-कभी साहब तो इतने गुस्से में हो जाते हैं कि सारी मर्यादा भूल कर उपभोक्ताओं से उलझने में जरा भी देर नहीं करते। साहब के हरकतों का नजारा आम हो चुका है। विद्युत वितरण खंड कार्यालय से जुड़े उपभोक्ताओं की शिकायत रहती है कि मीटर रीडर समय पर बिल नहीं देते तो वहीं मीटर गड़बड़ी की वजह से भारी भरकम बिल ग्राहकों को थमा दिया जाता है। हैरान परेशान उपभोक्ता जब कार्यालय पहुंचकर अपनी समस्या एसडीओ को बताना चाहता है तो ऐसे में साहब का पारा सातवें आसमान चढ़ जाता है। वह उपभोक्ताओं की समस्या सुनने के बजाय उसके ऊपर ही सारा ठीकरा फोड़ देते हैं। जिस वजह से बेचारा उपभोक्ता अपने आप को अपराधी समझने लगता है। साहब के तेवर भी पुलिसिया अंदाज में होते हैं। डांट फटकार लगाने में वह सारी मर्यादा भूल जाते हैं। कुछ ऐसा ही नजारा बुधवार की शाम को देखने को मिला। जब नगर के कुछ उपभोक्ता विद्युत बिल गड़बड़ी की समस्या को लेकर बिजली कार्यालय पहुंचे थे। समस्या के समाधान की आस में सहायक अभियंता से मिले। जैसे ही लोगों ने अपनी समस्या बताना शुरू किया। एसडीओ एसके यादव भड़क गए। एक उपभोक्ता पर तो इस कदर बिगड़ गए की गुस्से में लाल सहायक अभियंता अपने अधीनस्थों को फोन लगाकर तुरंत पीड़ित का कनेक्शन काटने का फरमान जारी कर दिया। बेचारा गिड़गिड़ाता रहा लेकिन कुछ भी सुनने को राजी नहीं हुए। बता दें कि लगभग दो साल में नगर परिक्षेत्र में नियमित वसूली व्यवस्था चरमरा गया है। प्राइवेट मीटर रीडर समय पर उपभोक्ताओं को बिल नहीं देते। घर बैठे ही कम रीडिंग दिखाकर बिल बना देते हैं। जब दो-तीन महीनों बाद मौके पर जाकर मीटर रीडर बिल निकालता है तो ऐसे में अचानक भारी भरकम बिल राशि देकर उपभोक्ताओं का सिर चकरा जाता हैं। नगर परिक्षेत्र में मीटर जंपिंग एवं फास्ट रीडिंग की शिकायतों की भरमार है। आरोप है कि एसडीओ के कुछ विश्वासपात्र प्राइवेट विद्युत कर्मी बिल सही कराने के नाम पर उपभोक्ताओं का शोषण करते हैं। बकाया वसूली हो या मीटर चेकिंग हर काम में आजकल प्राइवेट कर्मी ही ज्यादा नजर आते हैं। नगर के विद्युत उपभोक्ताओं ने उच्चाधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराते हुए विद्युत बिल संबंधित व्यवस्था में सुधार कराने एवं दोषी कर्मियों पर कार्रवाई किए जाने की मांग की है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article