2 C
Munich
Friday, December 2, 2022

फसल अवशेष प्रबंधन को डी-कम्पोजर अपनाएं किसान

Must read

Advertisement
Advertisement

कृषि विभाग की ओर से किसानों को बांटे गये नि:शुल्क डी-कम्पोजर

वाराणसी/संसद वाणी
किसानों मे फसल अवशेष प्रबंधन के प्रति जागरूकता लाने और डी-कम्पोजर का प्रयोग बढ़ाने के उद्देश्य से चोलापुर विकास खण्ड क्षेत्र के राजवारी न्याय पंचायत अंतर्गत डुडुवां गांव में वृहस्पतिवार को कृषि विभाग द्वारा कृषक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कृषक जागरूकता कार्यक्रम में किसानों को खण्ड तकनीकी प्रबंधक देवमणि त्रिपाठी ने खरीफ फसलों की कटाई के बाद फसल अवशेष प्रबंधन की जानकारी दी।उन्होंने कहा कि फसल काटने के बाद फसल अवशेषों में किसान आग न लगाएं बल्कि वेस्ट डी-कम्पोजर का प्रयोग करके उसे मिट्टी में ही मिला दें।उन्होंने बताया कि खेतों में फसल अवशेष जलाने से केंचुए के साथ ही मित्र कीट व करोड़ों लाभदायक सूक्ष्म जीव जलकर नष्ट हो जाते हैं जिसके फलस्वरूप उत्पादन भी प्रभावित होता है।ऐसे में किसान फसल अवशेष प्रबंधन के लिए सुपर सीडर मशीन का प्रयोग कर सकते हैं।
उप कृषि निदेशक अखिलेश कुमार सिंह के आदेशानुसार “प्रमोशन आप एग्रीकल्चर मैकेनाइजेशनफार इन-सीटू मेनेजमेंट आप क्राप रेजिड्यू” योजनान्तर्गत आयोजित न्याय पंचायत स्तरीय जागरूकता कार्यक्रम में कृषि विभाग द्वारा 50 किसानों नि:शुल्क डी-कम्पोजर का वितरण किया गया।साथ ही स्वामी शरण कुशवाहा ने किसानों के समक्ष वेस्ट डी-कम्पोजर के प्रयोग करने की विधि का सजीव प्रदर्शन किया और किसानों से फसल अवशेष प्रबंधन के लिए डी-कम्पोजर के प्रयोग करने की सलाह दी।कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए डुडुवां गांव के ग्राम प्रधान पारस यादव ने किसानों से खेतों में फसल अवशेष न जलाने की अपील करते हुए डी-कम्पोजर प्रयोग करने की सलाह दी। इसी क्रम में क्षेत्र के चौबेपुर में नीतीश कुमार,रौना कलां में सुभाष झा,धौरहरा संतोष के द्वारा न्याय पंचायत स्तरीय कृषक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

Advertisement
- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article