August 12, 2022

कम लागत मे अधिक उत्पादन बढ़ाने की तकनीक सीख रहे किसान।

Advertisement
Advertisement

किसानों को कराया गया एक्सपोजर विजिट

दानगंज/संसद वाणी

अंधाधुंध उर्वरकों के प्रयोग की प्रवृत्ति अब खतरनाक मोड़ पर है,समय रहते यदि हम सावधान नही हुए तो हरित क्रांति से उपजी खुशहाली का रंग यदि फीका पड़ जाय तो आश्चर्य नही।ऐसे मे अब हमे जैविक खेती की ओर अग्रसर होना पड़ेगा।उक्त विचार चोलापुर के सहायक विकास अधिकारी कृषि शिवदास ने बुधवार को धरसौना व कटारी गाँव मे आयोजित जैविक खेती कृषक प्रशिक्षण मे उपस्थित किसानों के बीच ब्यक्त किये।उन्होंने जैविक खेती के प्रशिक्षण कार्यक्रम मे उपस्थित किसानों से जैविक खेती अपनाने का आह्वान किया। उप कृषि निदेशक अखिलेश कुमार सिंह के आदेशानुसार नमामि गंगे योजनान्तर्गत कृषि विभाग व इश एग्रीटेक के संयुक्त तत्वावधान मे चोलापुर के किसानो को जैविक खेती के अंतर्गत बीजामृत, जीवामृत, घन जीवामृत, दशपर्णी अर्क बनाने की तकनीकी सिखाई जा रही है जिससे खेती की लागत कम करके भी उच्च गुणवत्ता खाद्यान्नों का अधिक उत्पादन प्राप्त कर सके। – प्रशिक्षण के पश्चात नमामि गंगे के प्रोजेक्ट हेड स्वामी शरण कुशवाहा ने किसानों को कटारी गाँव के किसान संजय कुमार मौर्य के जैविक प्रदर्शन प्लाट का विजिट कराया गया।मास्टर ट्रेनर देवयणि त्रिपाठी ने कहा कि देशी गाय आधारित जैविक खेती को अपनाने से फसलों पर प्राकृतिक आपदा व बीमारियों का प्रकोप नही होता है जिससे फसलें सुरक्षित रहती हैं और फसल सुरक्षा पर अनावश्यक खर्च भी नही करना पड़ता। इस दौरान शैलेंद्र सिंह,बिजेंद्र सिंह,शशिकला पटेल, ओम प्रकाश गुप्ता, संदीप प्रजापति, किशन गुप्ता, अभिषेक पाण्डेय आदि उपस्थित रहे।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post CM योगी के आजमगढ़ में कार्यक्रम को लेकर ADG के नेतृत्व में कई जिलों की पुलिस फोर्स ने संभाली कमान, तैयारी युद्ध स्तर पर
Next post बेहतर समाज के लिए आज महिलाओं का सम्मान व महिलाओं को अपनी आवाज बुलंद करने की जरूरत।