August 12, 2022

प्रधानमंत्री ने काशी से दिया संदेश, शार्ट कट से देश का भला नहीं हो सकता

Advertisement
Advertisement

कुछ नेताओं का भले भला हो जाए, लेकिन देश व जनता का भला नहीं होता-नरेंद्र मोदी

दिव्य-भव्य-नव्य काशी में आठ सालों से विकास का उत्सव चल रहा है-प्रधानमंत्री

आज काशी का इंफ्रास्ट्रक्चर कहां से कहां पहुंच गया है-नरेन्द्र मोदी

वाराणसी/संसद वाणी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुरुवार को काशीवासियों को 1774.34 करोड़ की सौगात दी। उन्होंने 553.76 करोड़ की 30 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं 1220.58 करोड़ की 13 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। डॉ संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम मैदान में आयोजित विशाल जनसभा में उन्होंने काशीवासियों से बनारसी अंदाज में कहा, काशी में कहल जाला सात वार अउर नौ त्योहार होला। कहे क मतलब ई कि एहां रोज-रोज नया-नया त्योहार मनावल जाला। विधानसभा चुनाव में साथ देने के लिए आभार जताया और अभिनंदन किया।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने काशी सदा से निरंतर प्रवाहमान रही हैं। उन्होंने कहा कि दिव्य-भव्य-नव्य काशी में आठ सालों से विकास का जो उत्सव चल रहा है, उसे एक बार फिर गति दे रहे हैं। काशी सदा से निरंतर प्रवाहमान रही है। काशी ने एक तस्वीर पूरे देश को दिखाई है जिसमें विरासत भी है, विकास भी है। ऐसी विरासत जिसे भव्य, दिव्य व नव्य बनाने का काम निरंतर जारी है। ऐसा विकास जो काशी की सड़कों गलियों कुंड हो तालाबों घाटों व पाटों, रेलवे स्टेशन से लेकर एयरपोर्ट तक निरंतर गतिमान है। आत्मा वही काया में निरंतर नवीनता लाने का प्रयास काशी में एक प्रोजेक्ट खत्म होता है, तो चार नए शुरू हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि आज भी यहां 17 सौ करोड़ से अधिक के दर्जनों प्रोजेक्ट का शिलान्यास हुआ। काशी नें सड़क, पानी, बिजली, शिक्षा, स्वच्छता व सुंदरीकरण से जुड़ी हजारो करोड़ रुपये की परियोजनाएं शुरू हो चुकी हैं। हजारों करोड़ की परियोजनाओं पर काम जारी है। आत्मा वही काया में निरंतर नवीनता लाने का प्रयास कर रहे हैं।


प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज विकास में गतिशीलता, प्रगतिशीलता व संवेदनशीलता तीनों चीज है। शिक्षा, कौशल, पर्यावरण, स्वच्छता व व्यापार के लिए जब प्रोत्साहन मिलता है, नए संस्थान बनते हैं। आस्था व अध्यात्म से जुड़े स्थानों को जब संवारा जाता है, तो विकास प्रगतिशील होता है। हर एक को बिजली पानी, घर मिलता है तो विकास संवेदनशील होता है। आज विकास में गतिशीलता, प्रगतिशीलता व संवेदनशीलता तीनों चीज है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि काशी के जागरूक नागरिकों ने जिस तरह देश को दिशा देने का काम किया है उससे आनंदित हूं। संदेश दिया है कि शार्ट कट से देश का भला नहीं हो सकता। कुछ नेताओं का भला हो जाए, लेकिन देश व जनता का भला नहीं होता। उन्होंने विशेष रूप जोर देते हुए कहा कि याद है कि 2014 में बाहर से आए लोग सवाल करते थे, यहां इतना कुछ अव्यवस्थित है कैसे ठीक होगा। उनकी चिंता जायज थी। जिधर नजर डालो बदलाव, सुधार की गुंजाइश नजर आती थी। लगता था दशकों से काम हुआ ही नहीं है। ऐसे में लोगों के लिए यह दे-दो जैसे शार्टकट से ज्यादा सोच में न था लेकिन मैं बनारस के लोगों की दाद दूंगा कि सही रास्ता चुना। दो टूक कह दिया कि काम ऐसे हो जो वर्तमान को ठीक करे ही भविष्य को भी कई दशक तक बनारस को लाभ पहुंचाए। उन्होंने कहा कि जब दूरगामी प्लानिंग होती है तो नतीजे भी निकलते हैं। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि आज काशी का इंफ्रास्ट्रक्चर कहां से कहां पहुंच गया है। इससे किसान, नौजवान सभी को लाभ पहुंच रहा हैं। व्यापार-कारोबार बढ़ रहा। रिक्शा वाला भी कह रहा इतना काम मिल रहा। कारोबारी कह रहा इतना माल उठ रहा। घर, सड़क बनने में स्टील, सीमेंट समेत निर्माण सामग्री वालों का कारोबार बढ़ रहा है। काशी रोजगार की दिशा में आगे बढ़ रही। आज काशी के चारो तरफ रिंग रोड, चौड़े नेशनल हाइवे, बाबतपुर सिटी लिंक रोड. आरओबी, फ्लाइओवर यह सब बनारस के लोगों का जीवन आसान बना रहे हैं। यह सुविधा और बढ़ने वाली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशीवासियों का आह्वान करते हुए कहा कि काशी को हम सभी को मिलकर बचाना है। स्वच्छता का संदेश देते हुए उन्होंने कहा कि हम सभी को मिलकर काशी को स्वच्छ रखना है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि काशी में ऐतिहासिक विकास कार्य हुए हैं और यह श्रृंखला अनवरत जारी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने अपने 8 वर्ष का कार्य सफलतापूर्वक पूर्ण किया है। इस दौरान सरकार की जनकल्याणकारी एवं जनहित कार्यक्रमों एवं योजनाओं का लाभ नौजवानों, महिलाओं सहित समाज के अंतिम पंक्ति में बैठे लोगों तक बगैर किसी जाति, धर्म से ऊपर उठकर लोगों को लाभान्वित किया गया है। लोगों को योजनाओं का सीधा लाभ मिला है। इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि काशी के इतिहास में गत 5 वर्ष का कार्यकाल काफी महत्वपूर्ण रहा। नई काशी के रूप में दुनिया में इसकी पहचान बनी है। उन्होंने बताया कि से काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के लोकार्पण के पश्चात 13 दिसंबर के बाद कोई ऐसा दिन नहीं रहा जब प्रतिदिवस एक से 5-6 लाख लोगों ने बाबा श्री काशी विश्वनाथ का दर्शन न किया हो।
इस अवसर पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, केंद्रीय मंत्री डॉ0 महेंद्र नाथ पांडेय, उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर, मंत्री रविंद्र जायसवाल, मंत्री दयाशंकर मिश्र “दयालु”, मंत्री गिरीश यादव, सांसद बीपी सरोज, पूर्व मंत्री एवं विधायक डॉक्टर नीलकंठ तिवारी, विधायक सौरभ श्रीवास्तव, विधायक डॉ अवधेश सिंह सहित अन्य लोग प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post सिगरा स्थित रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर में अखिल भारतीय शिक्षा समागम का उद्घाटन करने के पश्चात शिक्षाविदो से किया संवाद
Next post प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन के संबंध में तीन दिवसीय अखिल भारतीय शिक्षा समागम का किया उद्घाटन