August 12, 2022

दहेज़ हत्या को लेकर पति समेत छः लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का आदेश

Advertisement
Advertisement

वाराणसी/संसद वाणी

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (भारतेन्द्र सिंह) की अदालत ने दहेज़ हत्या को लेकर पति दीपक कुमार, सास समारी देवी, ससुर घूरन, जेठ कन्हैया रावत, जेठानी सविता देवी, भतीजी पलक व नंद काजल के खिलाफ़ मुकदमा दर्ज कर विवेचना करने का आदेश भेलूपुर थानाध्यक्ष को दिया है। साथ ही प्रार्थनापत्र में उल्लिखित तथ्यों /घटना के प्रकाश में सुसंगत धाराओं में प्रथम सूचना रिपोर्ट पंजीकृत कर नियमानुसार विवेचना करने का आदेश दिया है। अदालत ने यह आदेश पचपेड़वा, आदर्श नगर कॉलोनी गेट नंबर 3, थाना मण्डुवाडीह निवासी संजय रावत के प्रार्थनापत्र पर सुनवाई के बाद दिया है। प्रकरण के अनुसार संजय रावत ने अपने अधिवक्ता नीरज यादव, के जरिए अदालत में दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 156 (3) के तहत प्रार्थनापत्र दिया था। आरोप था कि उसकी पुत्री की शादी मण्डुवाडीह निवासी दीपक रावत से सन् 2019 में हुई थी। विपक्षीगढ़ उसकी पुत्री से दहेज में पांच लाख रुपये की मांग करते थे तथा उसे तरह तरह-तरह से शारीरिक एवं मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे। उसकी पुत्री जब भी मौका पाती तो वह अपनी आपबीती उससे व अपनी मां से बताती थी। दहेज की मांग को लेकर ससुराल वाले आए दिन ताना मारते थे तथा तलाक दिलाकर छोड़ देने की धमकी देते थे। उसके पति का अपने भाई कन्हैया रावत की पत्नी सविता रावत के साथ अवैध संबंध था, जिससे उसकी पुत्री ने भी आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था और उसके बाद उसकी पुत्री को पति दीपक द्वारा उसकी पुत्री को मारा पीटा गया था। उसकी पुत्री इस अवैध संबंध से काफी परेशान रहती थी। 20 जनवरी 2022 को पल्लवी ने फोन पर बताया कि स्वाति की तबीयत ज्यादा खराब है और पापुलर हॉस्पिटल में ले जाया गया। आवेदक ने अपने भतीजे को हॉस्पिटल पहुंचाने को कहा वहां पहुंच कर उसने देखा कि मौसेरी बहन मृत अवस्था में बेड पर पड़ी है। उसकी पुत्री की हत्या उसके पति व ससुरालवालों ने मिलकर कर दिया है। उसकी पुत्री का पोस्टमार्टम पुलिस द्वारा किया गया किंतु उसकी रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई। तब आवेदक ने 7 फरवरी 2022 को पुलिस कमिश्नर को प्रार्थना पत्र देकर कार्रवाई किए जाने की मांग की किंतु पुलिस द्वारा विपक्षीगढ़ के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं की गई तो थक हारकर उसने अदालत की शरण ली।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post डाक्टर्स डे (01 जुलाई) पर विशेष बेटियों के जन्म पर उत्सव मनाती हैं डॉ शिप्रा चला रहीं अभियान, ‘बेटियां होती हैं वरदान’
Next post युवती को परेशान करने वाले युवक से पुलिस ने कराई शादी