July 6, 2022

गंगा दशहरा, गायत्री जयंती एवं परमपूज्य गुरुदेव के निर्वाण दिवस पर विविध कार्यक्रम का हुआ आयोजन।

Advertisement
Advertisement

वाराणसी/संसद वाणी

आज दिनांक 10-06-2022 दिन शुक्रवार को गंगा दशहरा, गायत्री जयंती एवं परमपूज्य गुरुदेव पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य जी के निर्वाण दिवस पर सुबह 9 बजे से गायत्री शक्तिपीठ दानुपुर, बड़ा लालपुर वाराणसी के प्रांगण में विविध कार्यक्रम का आयोजन हुआ ।
सर्वप्रथम गायत्री शक्तिपीठ के संस्कारशाला में आचार्य पद पर बैठकर श्रीमती सावित्री सिंह ने 17लोगों को दीक्षा संस्कार, 04 बच्चों को विद्यारंभ संस्कार एवं 02 गर्भवती महिलाओं को पुंसवन संस्कार से संस्कारित किया गया। यज्ञशाला में आध्यात्मिक संदेशवाहक श्री अनिलेश तिवारी ने आचार्य पद पर बैठकर नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ को पूरे गायत्री विधि विधान से कई पालियों में अग्निहोत्र कर पूर्णाहुति कराया।नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ में गायत्री महामंत्र से, महामृत्युंजय महामंत्र से, महाकाल मंत्र से, सूर्य गायत्री महामंत्र से एवं नौ ग्रह शान्ति मंत्र से आहुतियां अग्निहोत्र किया गया।नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ में पुंसवन संस्कार के महत्व पर प्रकाश डालते हुएकहा कि माँ के गर्भ में पल रहे शिशु की श्रवण शक्ति बहुत तीव्र होती है।माँ को गर्भावस्था में शालीनता, एवं प्रेरणा दायक संगीत एवं पुस्तकों का अध्ययन करना चाहिए साथ ही पिता को भी संस्कार से परिपूर्ण जीवन जीना होगा।शिशु के सम्पूर्ण विकास हेतु घर के बड़े एवं अन्य सदस्यों को घर का वातावरण शालीन एवं प्रेम से परिपूर्ण बनाना होगा तभी शिशु का सम्पूर्ण विकास संभव है।
कार्यक्रम का संयोजन जिला समन्वयक पंडित गंगाधर उपाध्याय ने किया। नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ में श्री अवधेश सिंह,सीए धनञ्जय ओझा, आर एन यादव, ओम नारायण भारद्वाज,श्रीमती सावित्री सिंह, अनिला बरनवाल, संगीता सिंह, अजय लक्ष्मी सिंह, पुष्पा गुप्ता ,किरण तिवारी,पुष्पा रानी एवं मीडिया प्रभारी रमन कुमार श्रीवास्तव सहित सैकड़ों गायत्री साधकों ने भाग लिया

नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ को पूरे गायत्री विधि विधान से कई पालियों में अग्निहोत्र कर पूर्णाहुति कराया।
नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ को पूरे गायत्री विधि विधान से कई पालियों में अग्निहोत्र कर पूर्णाहुति कराया।
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post समाज सुहेलदेव के संघर्षों व आदर्शो को जीवन मे उतारे– डॉ अवधेश।
Next post चर्चित बलिया खाद्यान्न घोटाले के तीन अभियुक्त को ईओडब्लू वाराणासी ने किया गिरफ्तार