July 6, 2022

अब हर रविवार होगा मच्छरों पर वार,मलेरिया रोधी माह के रूप में मनाया जा रहा जून माह घर-घर पहुंचेंगे स्वास्थ्यकर्मी

Advertisement
Advertisement

मलेरिया के प्रति लोगों को करेंगे जागरूक
बचाव व नियंत्रण में जनसहभागिता के लिए होंगे कार्यक्रम

वाराणसी/संसद वाणी
मच्छर जनित बीमारी मलेरिया की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग जून माह को ‘मलेरिया रोधी’ माह के रूप में मना रहा है। इसके तहत स्वास्थ्यकर्मी घर-घर जायेंगे और लोगों को मलेरिया से बचाव के प्रति जागरूक करेंगे। इसके साथ ही हर रविवार, मच्छरों पर वार अभियान चलाया जायेगा। मलेरिया से बचाव व नियंत्रण में जन सहभागिता के लिए पूरे माह विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. संदीप चौधरी ने बताया कि जून माह को ‘मलेरिया रोधी माह’ के रूप में मनाये जाने का मुख्य मकसद लोगों को मलेरिया के प्रति जागरूक करने के साथ-साथ इससे बचाव व नियंत्रण में जनसहभागिता सुनिश्चित करना है। उन्होंने बताया कि अपर निदेशक मलेरिया एवं वीबीडी ने पत्र भेज कर जून माह को मलेरिया रोधी माह के रूप में मनाने के निर्देश दिये है। जिसके तहत पूरे माह भर के कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार कर ली गयी है। इसके तहत स्वास्थ्यकर्मी घर-घर जाकर लोगों को मलेरिया से बचाव व त्वरित उपचार के प्रति जागरूक करेंगे। उन्होंने बताया कि जिले के सभी सीएचसी, पीएचसी के चिकित्साधिकारियों को निर्देश दिये गये हैं कि वे आशा व आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को घर-घर भेजकर इस बारे में लोगों को जागरूक करें।


जिला मलेरिया अधिकारी शरतचंद्र पाण्डेय ने बताया कि अभियान के दौरान पूरे माह आशा एवं आंगनवाड़ी कार्यक्रर्ता घर-घर जाकर मच्छर जनित बीमारी मलेरिया के खतरे तथा उससे बचाव की जानकारी देंगे। आमजन को बताया जायेगा कि घर के आसपास या घरों में सात दिन से अधिक समय तक किसी भी बर्तन या स्थान में पानी न जमा होने दें। कूलर से भरे पानी एवं फ्रिज के पीछे की ट्रे, गमलों, टूटे हुए बर्तन या खराब टायर में पानी जमा हो तो उसे साफ करते रहें। घर के दरवाजों और खिड़कियों में जाली का प्रयोग करें। मच्छरों से बचाव के लिए फुल आस्तीन के कपड़े पहने व मच्छररोधी क्रीम का प्रयोग करें। रात में सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग ज्यादा बेहतर होगा। उन्होंने बताया कि अभियान के तहत हर रविवार, मच्छरों पर वार कार्यक्रम का भी आयोजन किया जायेगा। लोगों को जागरूक किया जायेगा कि वह रविवार की छुट्टी में कुछ समय ऐसे स्थानों की सफाई के लिये दें, जहां गंदे पानी के जमाव की संभावना है। साथ ही घर व आसपास की सफाई के लिए भी लोगों को जागरूक किया जायेगा ताकि मच्छर जनित इस बीमारी से बचा जा सके।
डीएमओ ने बताया कि मलेरिया रोधी माह में ग्राम स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समिति के माध्यम से मलेरिया रोग से बचाव उपचार के साथ ही समय से रोगी को रेफर करने पर विशेष बल दिया जायेगा। पूरी कोशिश होगी कि मलेरिया रोग की शीघ्र पहचान हो और जटिल मलेरिया रोगी को यदि समुचित लाभ नहीं मिल रहा है तो उसे निकटतम प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाने का कार्य जल्द से जल्द कराया जा सके।
मलेरिया के लक्षण-
सर्दी व कम्पन के साथ एक-दो दिन छोड़कर बुखार का आना।
तेज बुखार, उल्टियां और सिर दर्द।
बुखार उतरते समय खूब पसीना आना।
बुखार उतरने के बाद थकावट व कमजोरी।
लक्षण मिलने पर क्या करें-
बुखार होने पर रक्त की जांच कराएं।
मलेरिया की पुष्टि होने पर दवा नियमित रूप से लें।
खाली पेट दवा न खाएं।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post हत्या के विरोध में चक्काजाम सैलून में पहले बाल कटवाने में युवक की हत्या, आरोपी हिरासत में।
Next post मिशन शक्ति 4.0: “हक की बात जिलाधिकारी के साथ” कार्यक्रम आयोजित