July 1, 2022

सर्वाइकल कैंसर की जांच जरूर करायें, अपने बच्चों को अनाथ होने से बचायें: राज्यपाल

Advertisement
Advertisement

वाराणसी/संसद वाणी

• दस मिनट की निःशुल्क जांच जीवन के तमाम झंझावातों से देगी छुटकारा
• सांस्कृतिक संकुल में आयोजित ‘लाभार्थी कैम्प’ में आनंदीबेन पटेल के उद्‌गार
• कैम्प में स्वास्थ्य विभाग ने सर्वाइकल कैंसर जांच समेत लगाये अन्य स्टाल


प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा है कि सभी महिलाए सर्वाइकल कैंसर की जांच जरूर करायें। सर्वाइकल कैंसर के खतरे से अगाह करते हुए उन्होंने कहा कि दस मिनट की निःशुल्क जांच आपकों जीवन में आने वाले झंझावातों से तो छुट्कारा दिलायेगी ही आपके बच्चों को अनाथ होने से भी बचायेगी। लिहाजा यह जांच हर हाल में कराना जरूरी है, इसमें किसी भी महिला को लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए।
राज्यपाल आनंदीबेन पटेल शुक्रवार को चौकाघाट स्थित ‘पद्म विभूषण गिरिजा देवी सांस्कृतिक संकुल में आयोजित वाराणसी के समस्त उद्यानों के कर्मचारियों व अन्य सम्बन्धित कर्मचारियों के लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं के अन्तर्गत नगर निगम की ओर से आयोजित ‘लाभार्थी कैम्प’ का उद्घाटन करने के बाद मुख्य अतिथि के रूप में विचार व्यक्त कर रही थीं। इस कैम्प में विभिन्न विभागों के साथ ही स्वास्थ्य विभाग की ओर से सर्वाइकल एवं ब्रेस्ट कैंसर की जांच, हेल्थ चेकअप, आयुष्मान भारत योजना, कोविड वैक्सीनेशन, जननी सुरक्षा योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के भी स्टाल लगाये गये थे।
समारोह को सम्बोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि बच्चेदानी के मुह का कैंसर (सर्वाइकल कैंसर) एक गंभीर समस्या है। सर्वाइकल कैंसर से विश्व में होने वाली कुल मौतों में 25 प्रतिशत महिलाए भारत की होती हैं। इसलिए इसकी रोकथाम जरूरी है। सभागार में मौजूद महिलाओं से उन्होंने कहा कि आप जैसी अन्य महिलाएं भी अपनी जिम्मेदारियों को निभाने में इतना व्यस्त रहती हैं कि उन्हें खुद के बारे में सोचने की फुर्सत नहीं होती। ऐसी ही लापरवाही हमारे लिए जानलेवा हो जाती है। उन्होंने कहा कि अपने तमाम जरूरी कार्यो के बीच समय निकाल कर सभी महिलाओं को सर्वाइकल कैंसर की जांच जरूर करानी चाहिए। इस जांच में दस मिनट में से भी कम का समय लगता है और यह पूरी तरह निःशुल्क होता है। सर्वाइकल कैंसर के लक्षण का समय से पता चलने पर उसका उपचार महिला के जीवन को तो बचाया ही जा सकता है उसके परिवार को भी बर्बाद होने से बचाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि 30 वर्ष के उम्र की हर महिला को यह जांच जरूर कराना चाहिए। कोशिश हो कि हर तीसरे वर्ष वह अपना चेकअप जरूर कराये ताकि सर्वाइकल कैंसर का लक्षण शुरूआती दौर में पता चल सके।
कार्यक्रम के प्राम्भ में राज्यपाल ने लाभार्थी कैम्प का निरीक्षण किया। स्वास्थ्य विभाग के लगे स्टाल पर पहुंची आनंदीबेन पटेल को अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. एके मौर्या ने जननी सुरक्षा योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की प्रगति से अवगत कराया। इसी तरह वरिष्ठ चिकित्सक डा. एके पाण्डेय ने कोविड टीकाकरण समेत अन्य गतिविधियों से अवगत कराया। आयुष्मान भारत योजना के स्टाल पर योजना के नोडल अधिकारी डा. मोइजुद्दीन हाशमी ने राज्यपाल को जानकारियां उपलब्ध करायी। इसके बाद राज्यपाल ने सर्वाइल एवं ब्रेस्ट कैंसर चेकअप कैम्प पहुंची जहां सम्पूर्णा क्लीनिक की डा. जान्हवी सिंह के अलावा महामना पं. मदन मोहन मालवीय कैंसर अस्पताल की डा. प्रशस्ति ने उन्हें जांच के तरीके से अवगत कराया। शिविर में 112 लोगों ने हेल्थ चेकअप कराया, सर्वाइकल व ब्रेस्ट चेकअप में 25, कोविड वैक्सीनेशन में 11 के साथ ही कोविड हेल्पडेस्क से 213 लोगों ने लाभ उठाया। मलदहिया की रहने वाली चंदा देवी व माया देवी ने बताया कि इस कैम्प में आकर उन्होंने अपना सर्वाइकल कैंसर का जांच कराया।
समारोह का संचालन नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. एनपी सिंह ने व धन्यवाद ज्ञापित विकास प्राधिकरण की उपाध्यक्ष ईशा दुहन ने किया। समारोह में जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल, नगर आयुक्त प्रणय सिंह के अलावा डीएचईआईओ हरिवंश यादव के साथ ही स्वास्थ्य विभाग के डा. संतोष कुमार, अनुराग तिवारी, नरेन्द्र कुशवाहा, आयुष्मान भारत योजना के जिला सूचना प्रणाली प्रबंधक नवेन्द्र सिंह व योजना की जिला समन्वयक डा. पूजा जायसवाल समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे। प्रारम्भ में नगर आयुक्त प्रणय सिंह ने कार्यक्रम के उद्देथ्य पर प्रकाश डाला।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post थाना लोहता पुलिस ने थाना रोहनियाँ के गैंगेस्टर एक्ट के मुकदमें वांछित अभियुक्त को किया गिरफ्तार
Next post सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए जागरूकता और वैक्सीनेशन बेहद आवश्यक – राज्यपाल