June 30, 2022

पुलिस का भी ‘दर्द’ समझिए साहब…

Advertisement
Advertisement

अत्यधिक काम के बढ़ते बोझ ने पुलिस वालों में ’इंसान’ होने के भाव को ही खो दिया है

उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था का सवाल पिछले कई सालों से विधानसभा चुनाव में राजनैतिक बहस का मुद्दा बनता रहा है। लेकिन, इस बात पर राजनीति में कभी कोई बहस नहीं होती कि आखिर कानून का शासन स्थापित करने में लगे लोगों-खासकर ’पुलिस’ के सिपाहियों-दारोगाओं की मानवीय गरिमा को सुनिश्चित कैसे रखा जाए? कानून व्यवस्था के खात्मे का रोना सभी दल भले ही रोते हों, लेकिन कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी उठाने वाले पुलिस के इन सबसे निचले स्तर के जवानों के दुख दर्द उनकी बहस का हिस्सा नहीं होते हैं। पुलिस के कर्मचारी चाहे जितने जोखिम और तनाव में काम करें लेकिन उन्हें इंसान समझने और उसकी इंसानी गरिमा सुनिश्चित करने की ’भूल’ कोई भी राजनैतिक दल नहीं करना चाहता है।

मुकाबले उत्तर प्रदेश में प्रति पुलिसकर्मी सबसे ज्यादा आबादी रहती है। जहां तक इसके संख्या बल का सवाल है-यह रिक्तियों की भीषण कमी से साल दर साल लगातार जूझ रही है। पुलिस थानों का हाल यह है कि कई थाने अपनी कुल स्वीकृत पुलिस बल के आधे से भी कम संख्या पर किसी तरह से अपना काम चला रहे हैं। पुलिस के पास आने वाली शिकायतों की जांच के लिए दारोगा की जगह सिपाही भेजकर काम चलाया जा रहा है। यह सब पुलिस के प्रोफेशनलिज्म का न केवल मजाक है बल्कि कानून सम्मत भी नहीं है। जाहिर है इससे पीड़ित के लिए इंसाफ पाने की प्रक्रिया भी गंभीर तौर पर बाधित होती है यही नहीं, साल दर साल जिस तरह से पुलिस की जिम्मेदारियां और कार्यक्षेत्र बढ़ रहा हैं, ठीक उसी अनुपात में उनकी संख्या बल लगातार घटता जा रहा है। कार्य बल में लगातार हो रही कमी पुलिस की कार्यक्षमता पर बहुत ही नकारात्मक असर डाल रही है। इससे एक तरफ अपराध नियंत्रण मे जहा कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है।तो वही अत्यधिक कार्य के बोझ तले दबे पुलिसकर्मियों के द्वारा आत्महत्या का प्रकरण भी आये दिन देखा जा रहा है।जिसके बारे में आज तक किसी भी उच्चाधिकारियों द्वारा कोई भी विकल्प नही डुंडा गया।दबे मन से पुलिसकर्मियों द्वारा सुना जाता है कि वह कौन सा दर है जहाँ कहे और कौन सुनेगा हमारी फरियाद,कौन देगा जवाब?

तौफ़ीक़ खान के कलम से

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post डाकिया अब आधार से लिंक करेंगे मोबाइल नंबर, डाक विभाग ने शुरू किया अभियान
Next post सब इंस्पेक्टर गीता के प्रयास से अब तक 100 से ज्यादा दम्पति आपसी मनमुटाव दूर कर फिर हुए एक दूजे के