आरम्भ 2024, (strategy BJP)सांसदों को नाश्ते पर PM मोदी ने सिखाए राजनीतिक गुण

0
66

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने पार्टी सांसदों को काम करने के गुर सिखाए. हाल ही में संपन्न हुए संसद के शीतकालीन सत्र के बीच में पार्टी सांसदों के साथ नाश्ते पर बैठकों को ताकत बढ़ाने वाली बैठकों में बदल दिया.

इन बैठकों में प्रधानमंत्री ने उन्हें सोशल मीडिया का महत्व, वर्तमान में और आने वाले समय में धारणा बदलने में डिजिटल उपस्थिति के महत्व को समझाया. सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी ने संसद के हाल ही में संपन्न शीतकालीन सत्र में तीन मौकों पर राज्यों के अनुसार बने समूहों में सांसदों के साथ नाश्ते पर बैठक की.

सूत्रों ने बताया कि इन बैठकों के दौरान पार्टी के सांसदों से कहा गया कि वे सोशल मीडिया पर अपनी फॉलोइंग बढ़ाने और मतदाताओं को जोड़े रखने के लिए सख्ती से काम करें.सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री ने पार्टी के राज्यसभा सांसदों से लोगों को जोड़ने के लिए विशेष रूप से ध्यान केंद्रित करने के निर्देश दिए हैं.

वर्तमान में राज्यसभा में फिलहाल भारतीय जनता पार्टी के कुल 92 सांसद हैं. सूत्रों ने कहा, “राज्यसभा सांसदों से यहां तक कहा गया है कि उनके पास कोई निर्वाचन क्षेत्र नहीं है, तो वे पार्टी द्वारा उन्हें सौंपे गए कार्य या जिम्मेदारियों में सक्रिय भागीदारी करने के लिए प्रोत्साहित रहें.

बताया जाता है कि प्रधानमंत्री ने केंद्र द्वारा किए गए कार्यों और उसकी छाप को आने वाली पीढ़ियों पर प्रचारित करने पर भी जोर दिया. सूत्रों के मुताबिक, जहां सांसदों को हर समय संसद में उपस्थित रहने और बहस और चर्चा के लिए तैयार होकर आने के लिए कहा गया,

वहीं सोशल मीडिया पर उन्हें उपस्थित रहने के लिए भी जोर दिया गया.सूत्रों ने कहा, “सोशल मीडिया पर उनकी उपस्थिति और इंगेजमेंट के बारे में सभी सांसदों का व्यक्तिगत आकलन किया गया.

कुछ मापदंडों में ये भी देखा गया कि क्या सांसदों की विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स खासकर ट्विटर पर उपस्थिति अच्छी है या नहीं.” सूत्रों ने कहा, “सांसदों को इस बात पर भी आंका गया कि क्या उन्होंने सरकार, विशेष रूप से प्रधानमंत्री मोदी की पहल पर नमो ऐप के माध्यम से सामग्री शेयर की है.

इसके अलावा क्या उन्होंने ट्रेंडिंग मुद्दों जैसे-सरकार के बड़े फैसले, पार्टी की चुनावी सफलता, पार्टी/सरकार के कार्यों पर और अन्य मुद्दों के मीडिया कवरेज और कॉलम को सोशल मीडिया पर शेयर किया है.

विपक्ष की नकारात्मक राजनीति पर हमला करने के साथ-साथ मन की बात की सामग्री व्यापक रूप से साझा की जाती है या नहीं.”भारत ने दिसंबर 2022 में एक साल के लिए जी 20 की अध्यक्षता ग्रहण की है और इस एक साल की अवधि में 55 से अधिक शहरों में 600 से ज्यादा कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे.

इस मौके को देश का गौरव बताते हुए सूत्रों ने पीएम मोदी के हवाले से कहा कि संदेश को दूर-दूर तक ले जाने की जरूरत है और जनभागीदारी को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए.2014 के बाद से पीएम ने कभी नहीं ली छुट्टीपीएम मोदी ने 2014 में पदभार ग्रहण करने के बाद से पूरी तरह से स्वस्थ्य हैं और जैसा कि रिकॉर्ड से पता चलता है कि उन्होंने कभी भी एक भी दिन की छुट्टी नहीं ली है साथ ही उन्होंने अपने पार्टी सहयोगियों के लिए भी सलाह ली थी.

सूत्रों ने कहा, “कहा जाता है कि तीनों बैठकों में से हर बैठक में, पीएम मोदी ने सांसदों से पूछा कि उनमें से कितने सांसद नियमित स्वास्थ्य जांच करवाते हैं और अगर नहीं तो उन्हें बिना देरी किए ऐसा करना चाहिए.”सूत्रों ने कहा, प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि राज्यसभा सांसद जो कि राज्य परिषद से निर्वाचित होकर आते हैं उनकी जिम्मेदारी निर्वाचित प्रतिनिधियों से कहीं भी कम नहीं है.

बता दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री लोकसभा सांसद हैं, वहीं केंद्र सरकार में कई शीर्ष मंत्री राज्यसभा सांसद हैं. पीयूष गोयल, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, विदेश मंत्री सुब्रमण्यम जयशंकर, नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, तेल मंत्री हरदीप पुरी और शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान उच्चसदन से आते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here